Skip to main content

Posts

Showing posts from July, 2017

अब यूँ ही मुझे ले चल ए जिंदगी |

अब यूँ ही मुझे ले चल ए जिंदगी  |
ख्वाबों में कहीं खे चल ए  जिंदगी ||

मेरे हसीन लम्हों को एक कमरा किराये दे
इससे पहले की हो जाएँ ओझल ए जिंदगी ||

ख्याल आया कितनी खूब है चिता सी मौत
जो चिंता में घुटने लगी पल पल ए जिंदगी ||

डूब रही है कहीं सूरज की आखिरी किरण
हो सके तो इस पहर से निकल ए जिंदगी ||